पब्लिक प्रोविडेंट फंड, जिसे आमतौर पर पीपीएफ के रूप में जाना जाता है, भारत में बचत को निवेश में बदलने के सबसे लोकप्रिय तरीकों में से एक है। 1968 में शुरू किया गया, PPF आपकी बचत पर कर-मुक्त ब्याज अर्जित करने के सबसे सुरक्षित तरीकों में से एक है।

Mutual Funds: 5 साल में पैसा ट्रिपल करने वाली 5 स्कीम, सालाना 28% तक मिल रहा है रिटर्न

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया आरडी (आवर्ती जमा) दरें 2022

आवर्ती जमा उन लोगों के लिए एक निवेश सह बचत विकल्प है जो एक निश्चित अवधि में नियमित रूप से बचत करना चाहते हैं और उच्च ब्याज दर अर्जित करना चाहते हैं। यह एक प्रकार का सावधि जमा है जो हर महीने व्यवस्थित रूप से एक निश्चित राशि को बचाने की अनुमति देता है। यदि आप परिचित हैंसिप मेंम्यूचुअल फंड्सRD बैंकिंग में इसी तरह काम करता है। हर महीने, एक निश्चित राशि या तो बचत या चालू खाते से काट ली जाती है। और, मैच्योरिटी के अंत में, निवेशकों को उनके निवेश किए गए पैसे का भुगतान किया जाता क्या प्लस 500 लंबी अवधि के निवेश के लिए है हैउपार्जित ब्याज.

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के साथ एक आवर्ती जमा खाता खोलने के इच्छुक उपयोगकर्ता आपकी सुविधा के अनुसार कोई भी राशि और अवधि चुन सकते हैं।

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया आरडी दरें 2022

यहाँ की सूची हैआरडी ब्याज दरें यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की:

अवधि नियमित जमा के लिए आरडी दरें वरिष्ठ नागरिकों के लिए आरडी दरें
180 दिन - 364 दिन 5.50% 5.50%
1 साल 5.75% 5.75%
1 वर्ष 1 दिन – 443 दिन 5.75% 5.75%
445 दिन - 554 दिन 5.75% 5.75%
444 दिन 5.85% 5.85%
555 दिन 5.90% 5.90%
556 दिन - 2 साल 12 महीने 31 दिन 5.75% 5.75%
3 साल - 10 साल 5.80% 5.80%

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की आरडी योजनाएं

यहां यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की दो योजनाएं दी गई हैं।

संचयी जमा योजना

यह आकर्षक विशेषताओं के साथ यूबीआई की पारंपरिक आरडी योजना है। इस योजना की मासिक जमा राशि जमा राशि के साथ INR 50 जितनी कम हैश्रेणी छह महीने से 120 महीने तक। इसके अतिरिक्त, मासिक निवेश के अंतरिम विच्छेदन को वैध कारण के साथ सावधि जमा में परिवर्तित किया जा सकता है। तो, आप इसे a . के रूप में उपयोग कर सकते हैंएफडी शेष अवधि के लिए खाता।

यूनियन मासिक प्लस की आरडी योजना

'यूनियन मासिक प्लस' योजना लचीली हैनिवेश उपयोगकर्ता की सुविधा के अनुसार राशि। यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में एक आवर्ती जमा का खाताधारक मासिक जमा राशि को मूल राशि के गुणकों में बढ़ा सकता है। समय से पहले निकासी पर और न ही देर से भुगतान पर कोई जुर्माना नहीं है।

Tata Digital India Fund

5 साल में रिटर्न: 28% CAGR
5 साल में 1 लाख की वैल्यू: 3.45 लाख रुपये
5 साल में 10 हजार मंथली SIP की वैल्यू: 11.56 लाख रुपये
कम से कम एकमुश्त निवेश: 5000 रुपये
कम से कम SIP: 150 रुपये
कुल एसेट्स: 5512 करोड़ (31 मई, 2022)
एक्सपेंस रेश्यो: क्या प्लस 500 लंबी अवधि के निवेश के लिए है 0.35% (30 अप्रैल, 2022)

Post Office TD: ये सरकारी स्‍कीम 10 लाख पर देगी 3.8 लाख ब्‍याज, 1 साल से 5 साल तक निवेश के हैं विकल्‍प

Best SIP for 5 Years Investment 2022: इस साल चुनें ये बेहतरीन एसआईपी, पांच साल में कमा सकते हैं बैंक एफडी से भी अधिक रिटर्न

Ujjivan Bank FD Interest Rate: उज्जीवन बैंक ने बढ़ाई एफडी दरें, 560 दिनों की FD पर मिलेगा 8.75% ब्याज

ICICI क्या प्लस 500 लंबी अवधि के निवेश के लिए है Pru Technology Fund

5 साल में रिटर्न: 27.5% CAGR
5 साल में 1 लाख की वैल्यू: 3.36 लाख रुपये
5 साल में 10 हजार मंथली SIP की वैल्यू: 11.97 लाख रुपये
कम से कम एकमुश्त निवेश: 5000 रुपये
कम से कम SIP: 100 रुपये
कुल एसेट्स: 8772 करोड़ (31 मई, 2022)
एक्सपेंस रेश्यो: 0.71% (30 अप्रैल, 2022)

5 साल में रिटर्न: 26% CAGR
5 साल में 1 लाख की वैल्यू: 3.21 लाख रुपये
5 साल में 10 हजार मंथली SIP की वैल्यू: 11.27 लाख रुपये
कम से कम एकमुश्त निवेश: 1000 रुपये
कम से कम SIP: 100 रुपये
कुल एसेट्स: 3028 करोड़ (31 मई, 2022)
एक्सपेंस रेश्यो: 0.70% (30 अप्रैल, 2022)

SBI Tech Opportunities Fund

5 साल में रिटर्न: 24.70% CAGR
5 साल में 1 लाख की वैल्यू: 3 लाख रुपये
5 साल में 10 हजार मंथली SIP की वैल्यू: 11 लाख रुपये
कम से कम एकमुश्त निवेश: 1000 रुपये
कम से कम SIP: 500 रुपये
कुल एसेट्स: 2416 करोड़ (31 मई, 2022)
एक्सपेंस रेश्यो: 0.90% (30 अप्रैल, 2022)

5 साल में रिटर्न: 21.30% CAGR
5 साल में 1 लाख की वैल्यू: 2.65 लाख रुपये
5 साल में 10 हजार मंथली SIP की वैल्यू: 12.15 लाख रुपये
कम से कम एकमुश्त निवेश: 5000 रुपये
कम से कम SIP: 1000 रुपये
कुल एसेट्स: 573 करोड़ (31 मई, 2022)
एक्सपेंस रेश्यो: 0.64% (31 मई, 2022)

निवेश के लिए कैसा है फ्रेंकलिन इंडिया प्राइमा प्लस फंड?

निवेश के लिए कैसा है फ्रेंकलिन इंडिया प्राइमा प्लस फंड?

कैसा रहा है प्रदर्शन
इस फंड ने पिछले 10 सालों में 10.89 फीसदी का रिटर्न दिया है, जो बेंचमार्क (5.86 फीसदी) और कैटेगरी (8.9 फीसदी) से काफी बेहतर नजर आता है.

Franklin 1

10 साल पहले इस फंड में लगाए गए 10,000 रुपये की वैल्यू आज 28,106 रुपये हो जाती. कैटेगरी के औसत के हिसाब से यह 23,447 रुपये और इंडेक्स के लिहाज से 17,675 रुपये ही रहते.

साल-दर-साल का प्रदर्शन

ELSS Vs Gold Mutual Fund: सिर्फ ₹500 के निवेश से करोड़ों बनाने का सौदा, ऐसे कमाल करती हैं ये 2 शानदार स्कीम

ELSS Vs Gold Mutual Fund: कम इनवेस्टेमेंट में अच्छे रिटर्न वाली स्कीम ढूंढ रहे हैं तो ये दो स्कीम आपके काम की हैं. सिर्फ 500 रुपए से दोनों स्कीम में निवेश हो सकता है.

ELSS Vs Gold Mutual Fund: निवेश की शुरुआत कर रहे हों या फिर पहले के निवेश को बढ़ाना चाहते हैं. आपके लिए म्यूचुअल फंड (Mutual Funds) सही है. लेकिन, फायदे का सौदा वही, जहां निवेश बढ़ने के साथ आपकी वेल्थ भी बढ़े. बंपर रिटर्न के लिए कुछ ही ऑप्शन क्या प्लस 500 लंबी अवधि के निवेश के लिए है ऐसे हैं, जहां निवेश किया जा सकता है. आप इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS) या गोल्ड म्यूचुअल फंड (Gold Mutual fund) में निवेश कर सकते हैं. ये दोनों ही ऑप्शन लॉन्ग टर्म निवेश (Long term Investment) के लिए सही माने जाते हैं.

ELSS- निवेश का क्या है फायदा?

3 साल का लॉक-इन पीरियड: ELSS में 3 साल का लॉक-इन पीरियड (Lock in period) होता है, मतलब जो पैसा आपने निवेश किया है वो 3 साल से पहले नहीं निकाल सकते. यह इस स्कीम का बढ़िया फीचर है. दूसरी स्कीम्स की तुलना में इसका लॉक-इन पीरियड काफी कम है.

500 रुपए से करें शुरुआत: ELSS में सिस्‍टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) के जरिए सिर्फ 500 रुपए से शुरुआत की जा सकती है. अधिकतम निवेश की कोई सीमा नहीं है. निवेश करने वालों को इसमें दो तरह के ऑप्शन मिलते हैं. इनमें पहला है ग्रोथ और दूसरा है डिविडेंड पे आउट. ग्रोथ ऑप्शन में पैसा लगातार स्कीम में रहता है.

कैसे ले सकते हैं फायदा: डिविडेंड ऑप्शन में कंपनियां समय-समय पर फायदा देती हैं. डिविडेंड ऑप्शन (Dividend option) वाली योजनाओं में साल में एक बार डिविडेंड मिल सकता है. हालांकि, कुछ योजनाओं ने तो साल में एक बार से ज्‍यादा डिविडेंड दिया है.

गोल्ड म्यूचुअल फंड में कैसे करें शुरुआत?

गोल्ड ETF में ही होता है निवेश: गोल्ड म्यूचुअल फंड, गोल्ड ETF का ही एक हिस्सा है. ये ऐसी योजनाएं हैं जो गोल्ड ETF में निवेश करती हैं. गोल्ड म्यूचुअल फंड सीधे फिजिकल सोने में निवेश नहीं करते. गोल्ड म्यूचुअल फंड ओपन-एंडेड निवेश प्रोडक्ट है, जो गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (Gold ETF) में निवेश करते हैं और उनका नेट एसेट वैल्यू (NAV) ETFs के प्रदर्शन से जुड़ा हुआ है.

500 रुपए से शुरुआत: मंथली SIP के जरिए 500 रुपए के साथ गोल्ड म्यूचुअल फंड में निवेश शुरू कर सकते हैं. इसके निवेश करने के लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत नहीं होती है. आप किसी भी म्यूचुअल फंड हाउस के जरिए इसमें निवेश कर सकते हैं.

लॉन्ग टर्म गेन पर 20% टैक्स: गोल्ड म्युचुअल फंड में 3 साल से ज्यादा के निवेश को लॉन्ग-टर्म माना जाता है. इसके मुनाफे को लॉन्ग-टर्म कैपिटल गेन्स (LTCG) कहा जाता है. सोने पर LTCG पर इंडेक्सेशन बेनिफिट (प्लस सरचार्ज, अगर कोई हो और सेस) के साथ 20% की दर से टैक्स लगता है. वहीं, शॉर्ट-टर्म कैपिटल गेन्स (STCG) पर निवेशक को लागू स्लैब दर के क्या प्लस 500 लंबी अवधि के निवेश के लिए है मुताबिक टैक्स चुकाना होता है.

Polls

  • Property Tax in Delhi
  • Value of Property
  • BBMP Property Tax
  • Property Tax in Mumbai
  • PCMC Property Tax
  • Staircase Vastu
  • Vastu for Main Door
  • Vastu Shastra for Temple in Home
  • Vastu for North Facing House
  • Kitchen Vastu
  • Bhu Naksha UP
  • Bhu Naksha Rajasthan
  • Bhu Naksha Jharkhand
  • Bhu Naksha Maharashtra
  • Bhu Naksha CG
  • Griha Pravesh Muhurat
  • IGRS UP
  • IGRS AP
  • Delhi Circle Rates
  • IGRS Telangana
  • Square Meter to Square Feet
  • Hectare to Acre
  • Square Feet to Cent
  • Bigha to Acre
  • Square Meter to Cent
रेटिंग: 4.72
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 424