वहीं, रेजिस्टेंस का मतलब है कि कोई स्टॉक कितनी बार किसी एक भाव से फिर से नीचे की ओर लौटकर आया है. अगर कोई शेयर अपने रेजिस्टेंस को तोड़कर ऊपर की ओर जाता है तो इसे ब्रेकआउट कहते हैं यानी कि अब शेयर का भाव और बढ़ेगा. इसके विपरीत, यदि स्टॉक सपोर्ट लेवल को तोड़ देता है फंडामेंटल एनालिसिस का आधार तो उसके नीचे जाने की संभावना ज्यादा रहती है.

3.1 – वार्षिक रिपोर्ट (Annual Report) क्या होती है? हर कंपनी साल में एक बार वार्षिक रिपोर� ..

4.1 वित्तीय स्टेटमेंट का संक्षिप्त विवरण वित्तीय स्टेटमेंट को आप दो नज़रिये � ..

5.1 – खर्च की जानकारी पिछले अध्याय में हमने कंपनी की आमदनी के बारे में जाना था। ..

8.1 – संक्षिप्त विवरण कंपनी का कैश फ्लो स्टेटमेंट एक बहुत ही महत्वपूर्ण वि� ..

9.1 – फाइनेंशियल रेश्यो की भूमिका पिछले कुछ अध्यायों में हमने फाइनेंशियल स्ट� ..

10.1 लेवरेज रेश्यो ( The Leverage Ratios) हमने रिटर्न ऑन इक्विटी और ड्यूपॉन्ट एनालिसिस पर ..

13.1 – क्या उम्मीद रखें? अब हम इक्विटी रिसर्च करने का तरीका सीखेंगे। याद रखिए � ..

14.1 – शेयर की कीमत पिछले अध्याय में हमने इक्विटी रिसर्च के पहले दो चरणों को समझ ..

15.1 – DCF एनालिसिस का उपयोग पिछले अध्याय में हमने नेट प्रेजेंट वैल्यू (Net Present Value – ..

2- क्या मैं फ़ंडामेंटल एनालिस्ट बन फंडामेंटल एनालिसिस का आधार सकता हूँ?


आप बिलकुल बन सकते हैं। ये एक ग़लतफ़हमी है कि सिर्फ़ चार्टर्ड अकाउंटंट या कॉमर्स के बैकग्राउंड वाले लोग ही अच्छे फ़ंडामेंटल एनालिस्ट बन सकते हैं। एक अच्छा फ़ंडामेंटल एनालिस्ट बनने के लिए आपको बस कुछ चीज़ें सीखनी होंगी। :

  1. वित्तीय स्टेटमेंट को समझना
  2. हर बिज़नेस को उसकी इंडस्ट्री के परिप्रेक्ष्य के साथ समझना होगा
  3. ज़रूरी गणित को जानना होगा

इस अध्याय में हम ऊपर की लिस्ट में से पहली दो चीज़ों को सीखेंगे जिससे हमें फ़ंडामेंटल एनालिसिस आ सके।

1.3 – मुझे टेक्निकल एनालिसिस आती है, फंडामेंटल एनालिसिस समझने की क्या जरुरत है?

टेक्निकल एनालिसिस आपको छोटे फ़ायदे दिलाती है। ये आपको बाज़ार में एंट्री और एग्ज़िट का सही समय बताती है। लेकिन ये सम्पत्ति बढ़ाने का सही तरीका नहीं है। आप अमीर तभी बन सकते हैं जब आप अच्छा लांग टर्म निवेश करें। वैसे अच्छा ये होगा कि आप टेक्निकल ऐनालिसिस और फ़ंडामेंटल ऐनालिसिस दोनों को इस्तेमाल करें। इसे समझने के लिए एक बार फिर से आयशर मोटर्स के चार्ट पर नज़र डालते हैं।

मान लीजिए एक निवेशक आयशर मोटर्स को फंडामेंटल तौर पर मजबूत शेयर मानकर उस में निवेश करता है। उसने 2006 में कंपनी के शेयर में पैसे लगाए , जैसा कि आप चार्ट में देख सकते हैं कि 2006 से 2010 के बीच में स्टॉक ने कोई खास पैसे नहीं बनाए। शेयर में तेजी 2010 के बाद ही शुरू हुई। इसका यह भी मतलब हुआ कि फंडामेंटल एनालिसिस के आधार पर किए गए इस निवेश में आयशर मोटर्स ने निवेशक को अच्छा रिटर्न नहीं दिया। 2006 से 2010 के बीच इस निवेशक ने अगर छोटे-छोटे ट्रेड किए होते तो उसको ज्यादा फायदा हो सकता था। टेक्निकल एनालिसिस इस तरह के छोटे सौदों के लिए फायदेमंद होता है । इसीलिए आपको टेक्निकल एनालिसिस और फंडामेंटल एनालिसिस का इस्तेमाल फंडामेंटल एनालिसिस का आधार साथ – साथ करना चाहिए। इसी पर आधारित है पैसे निवेश करने की एक महत्वपूर्ण रणनीति जिसको कोर सैटेलाइट स्ट्रैटेजी ( The Core Satellite Strategy ) कहते हैं।

1.4 फंडामेंटल एनालिसिस के फंडामेंटल एनालिसिस का आधार टूल्स यानी उपकरण

फंडामेंटल एनालिसिस के लिए इस्तेमाल की जाने वाले टूल्स बहुत ही साधारण होते हैं जो कि सबके लिए मुफ्त में उपलब्ध हैं। इसके लिए आपको चाहिए :

  1. कंपनी की वार्षिक रिपोर्ट – फंडामेंटल एनालिसिस के लिए आपको जो भी सूचनाएं चाहिए वह कंपनी की एनुअल रिपोर्ट यानी वार्षिक रिपोर्ट में होती हैं आप इसे कंपनी के वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं।
  2. इंडस्ट्री से जुड़ा डेटा – यह जानने के लिए कि कंपनी कैसा काम कर रही है आपको इंडस्ट्री से जुड़ा हुआ डेटा भी चाहिए। यह डेटा भी मुफ्त उपलब्ध होता है। इसके लिए आपको उस इंडस्ट्री एसोसिएशन यानी संगठन की वेबसाइट पर जाना होता है।
  3. समाचार या खबरों पर नज़र – हर दिन की खबर आपको कंपनी के बारे में , इंडस्ट्री के बारे में और अर्थव्यवस्था के बारे में जानकारी देती रहती है। एक अच्छा समाचार पत्र या न्यूज़ चैनल आपके लिए काम आ सकता है।
  4. माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल ( MS Excel ) – हालांकि ये मुफ्त नहीं है लेकिन यह आपके फंडामेंटल एनालिसिस की गणनाओं के लिए काफी जरूरी है।

क्या है टेक्निकल और फंडामेंटल एनालिसिस? शेयर बाजार में पैसा कमाने के लिए जरूरी है ये ज्ञान, जानें इसे कैसे सीखें

शेयर बाजार में निवेश के लिए जरूरी है टेक्निकल और फंडामेंटल एनालिसिस की समझ

  • News18Hindi
  • Last Updated : November 03, 2022, 11:42 IST

हाइलाइट्स

टेक्निकल एनालिसिस में इंडिकेटर के जरिए स्टॉक के प्राइस की मूवमेंट का अंदाजा लगाया जाता है.
फंडामेंटल एनालिसिस में किसी भी कंपनी के बिजनेस मॉडल और ग्रोथ स्टोरी का अध्ययन किया जाता है.
टेक्निकल और फंडामेंटल एनालिसिस सीखने के लिए कई बुक, कोर्स और ऑनलाइन कंटेंट उपलब्ध है.

नई दिल्ली. शेयर मार्केट में निवेश करने से पहले इसकी पर्याप्त समझ होनी चाहिए. किसी फंडामेंटल एनालिसिस का आधार भी स्टॉक को खरीदने के लिए उसके बारे में अच्छे से अध्ययन करना होता है फंडामेंटल एनालिसिस का आधार और यह दो तरीकों टेक्निकल और फंडामेंटल एनालिसिस के जरिए किया जाता है. लेकिन, आम निवेशक को इसके बारे में ज्यादा समझ नहीं होती है लेकिन बाजार में सक्रिय रूप से काम करने वाले निवेशक और मार्केट एक्सपर्ट्स इसकी गहरी समझ रखते हैं. हालांकि, टेक्निकल और फंडामेंटल एनालिसिस की समझ विकसित करना ज्यादा मुश्किल नहीं है.

आइये जानते हैं कि आखिर टेक्निकल और फंटामेंटल एनालिसिस क्या है और कैसे इसके बारे में समझ विकसित करके शेयर बाजार में सक्रिय निवेशक के तौर पर काम किया जा सकता है. इन दोनों तरीकों से आप शेयर की कीमत का सही अनुमान और भविष्य से जुड़ी संभावनाओं के बारे में पता लगा सकते हैं, साथ ही स्टॉक कब खरीदें और कब फंडामेंटल एनालिसिस का आधार बेचें, यह निर्णय लेने में भी आपको मदद मिलेगी.

विदेशी मुद्रा ट्रेडिंग रणनीति फंडामेंटल विश्लेषण के आधार पर

Fundamental Analysis Strategy

फंडमेंटल एनालिसिस एक देश के मैक्रोइकोनॉमिक्स, कंपनी की प्रभावशीलता जैसे संबंधित आर्थिक और वित्तीय कारकों का विश्लेषण करके सुरक्षा के मूल्य को मापने की एक विधि है प्रबंधन आदि। मौलिक विश्लेषण रणनीति मूल रूप से इस विश्लेषण के माध्यम से व्यापारी कुछ भी अध्ययन करता है जो सुरक्षा के मूल्य को प्रभावित कर सकता है.

मौलिक विश्लेषण की पहचान करने के लिए प्रयोग किया जाता है अगर सुरक्षा सही ढंग से व्यापक बाजार के भीतर मूल्यवान है, यह एक मैक्रो और माइक्रो परिप्रेक्ष्य से किया जाता है । विश्लेषण पहले मैक्रो परिप्रेक्ष्य से शुरू होता है, तभी विशिष्ट कंपनी के पास चला गया प्रदर्शन (सूक्ष्म).

डेटा सार्वजनिक रिकॉर्ड से इकट्ठा किया जा सकता है। एक व्यापारी, जब शेयर का मूल्यांकन, राजस्व, आय, भविष्य में वृद्धि, इक्विटी पर वापसी, लाभ मार्जिन आदि के लिए देखना चाहिए..

मौलिक विश्लेषण विदेशी मुद्रा रणनीति

विदेशी मुद्रा में व्यापार करने वाले व्यापारी भी मौलिक विश्लेषण का उपयोग करते हैं। सिंस मौलिक विश्लेषण एक निवेश के आंतरिक मूल्य पर विचार करने के बारे में है, विदेशी मुद्रा में इसके आवेदन आर्थिक फंडामेंटल एनालिसिस का आधार स्थितियों पर विचार करना शामिल होगा जो हो सकता है राष्ट्रीय मुद्रा को प्रभावित करते हैं.

यहां कुछ प्रमुख मूलभूत कारक हैं जो मुद्रा के आंदोलन में भूमिका निभाते हैं.

  • इकोनॉमिक इंडिकेटर - आर्थिक संकेतक सरकार या एक निजी संगठन द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट हैं जो किसी देश के आर्थिक प्रदर्शन का विस्तार करते हैं। व्यापारी यहां बेरोजगारी दर फंडामेंटल एनालिसिस का आधार और संख्या मिल जाएगा, आवास के आंकड़े, मुद्रास्फीति आदि.
  • GDP - एक देश की अर्थव्यवस्था का एक उपाय है, और यह एक दिए गए वर्ष के दौरान एक देश में उत्पादित सभी वस्तुओं और सेवाओं के कुल बाजार मूल्य का प्रतिनिधित्व करता है.
  • टेल सेल्स - किसी दिए गए देश में सभी खुदरा स्टोरों के कुल राजस्व को मापता है। खुदरा बिक्री रिपोर्ट की तुलना सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनी के व्यापार प्रदर्शन से की जा सकती है। क्या व्यापारी बेहतर मदद कर सकते है बाजार की स्थिति को समझें.
  • औद्योगिक उत्पादन - व्यापारी आमतौर पर उपयोगिता उत्पादन को देखते हैं, जो उपयोगिता उद्योग के रूप में बेहद अस्थिर हो सकता है, बदले में, मौसम की स्थिति और व्यापार और ऊर्जा की मांग पर अत्यधिक निर्भर है.
  • अंसुपर मूल्य सूचकांक - उपाय २०० से अधिक विभिन्न श्रेणियों में उपभोक्ता वस्तुओं की कीमतों में परिवर्तन, जब एक राष्ट्र के निर्यात की तुलना में, अगर एक देश बना रही है या अपने पर पैसे खोने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है उत्पादों और सेवाओं.

Share ka fundamental analysis kaise karen

कभी भी शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करने से पूर्व फंडामेंटल एनालिसिस को समझना अति महत्वपूर्ण होता है। फंडामेंटल एनालिसिस शेयर मार्केट का आधार है। इसके अंतर्गत किसी भी कंपनी के वित्तीय डाटा की जांच करके शेयर की इन्ट्रिसिक वैल्यू को मापना होता है।

इसके अंतर्गत निवेशक कंपनी के वित्तीय डाटा की जांच कर कंपनी के शेयर का उचित मूल्य निकालता है तथा इसकी तुलना शेयर के वर्तमान मूल्य के साथ करता है।

इसमें निवेशक देखता है कि अगर शेयर का उचित मूल्य, शेयर के मार्केट मूल्य से ज्यादा है तो शेयर अंडरवैल्यूड होता है इसमें खरीददारी का मौका होता है।

रेटिंग: 4.11
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 418